2nd october

Hail the soldier, Hail the farmer(जय जवान जय किसान)

Essay on the Lal Bahadur Shastri

Hi Friends,

Hope you all are doing well!

Please find below the essay on Lal Bahadur Shastri. The Essay is given in both languages.

Essay on Lal Bahadur Shastri in English

Shri Lal Bahadur Shastri was the second Prime Minister of India. He was a great patriot and freedom fighter. He dedicated his life to the service for his country and his people.

He was a senior leader of the Indian National Congress party. He was the first person to be posthumously awarded the Bharat Ratna. Lal Bahadur Shastri was born on 2nd October 1904 in a poor family at Mughal Sarai, Uttar Pardes, India.

His father’s name was Sharda Prasad Shrivastav, who was a school teacher and his mother’s name was Ram Dulari Devi. He belonged to a Kayasth family. His father died when Shastri Ji was only a year and a half old.

Lal Bahadur Shastri was educated at Mughal Sarai and Varanasi. He graduated with a first-class degree from the Kashi Vidyapeeth. He was given the title ‘Shastri.

Shastri joined the Indian national movement in 1921.

Shastri Ji began to take part in politics at an early age. Shastri Ji was deeply impressed and influenced by Mahatma Gandhi. He became a loyal follower, first of Gandhi, and then of Jawaharlal Nehru, In 1951 he was elected the general secretary of the All India congress committee. He became a railway minister (1951-56).

He became the home minister in 1961. After the death of Jawahar Lal Nehru, Shastri became the prime minister of India. He led the country during the Indo-Pakistan War of 1965.

His slogan of “Jai Jawan Jai Kisan” (“Hail the soldier, Hail the farmer”) became very popular during the war. The enemy was given a bad defeat. He never used politics for the upliftment of his family.

Shastri Ji died on 11th January 1966 at Tashkent. India will never forget his selfless service. He will always be counted as one of the greatest martyrs and leaders of the country.

 

Essay on Lal Bahadur Shastri in Hindi

श्री लाल बहादुर शास्त्री भारत के दूसरे प्रधान मंत्री थे। वे एक महान देशभक्त और स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने अपना जीवन अपने देश और अपने लोगों की सेवा के लिए समर्पित कर दिया।

वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता थे। वह मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित होने वाले पहले व्यक्ति थे। लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को मुगल सराय, उत्तर परदेस, भारत में एक गरीब परिवार में हुआ था।

उनके पिता का नाम शारदा प्रसाद श्रीवास्तव था, जो एक स्कूल शिक्षक थे और उनकी माता का नाम राम दुलारी देवी था। वह कायस्थ परिवार से ताल्लुक रखते थे। जब शास्त्री जी केवल डेढ़ वर्ष के थे तब उनके पिता की मृत्यु हो गई।

लाल बहादुर शास्त्री की शिक्षा मुगल सराय और वाराणसी में हुई थी।

उन्होंने काशी विद्यापीठ से प्रथम श्रेणी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उन्हें ‘शास्त्री’ की उपाधि दी गई। शास्त्री 1921 में भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में शामिल हुए।

शास्त्री जी ने कम उम्र में ही राजनीति में भाग लेना शुरू कर दिया था। शास्त्री जी महात्मा गांधी से बहुत प्रभावित और प्रभावित थे। वह पहले गांधी और फिर जवाहरलाल नेहरू के वफादार अनुयायी बने, 1951 में उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का महासचिव चुना गया। वे रेल मंत्री (1951-56) बने।

वह 1961 में गृह मंत्री बने। जवाहर लाल नेहरू की मृत्यु के बाद, शास्त्री भारत के प्रधान मंत्री बने। उन्होंने 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान देश का नेतृत्व किया।

“जय जवान जय किसान” (“सैनिक की जय हो, किसान की जय हो”) का उनका नारा युद्ध के दौरान बहुत लोकप्रिय हुआ। दुश्मन को बुरी हार मिली। उन्होंने कभी भी अपने परिवार के उत्थान के लिए राजनीति का इस्तेमाल नहीं किया।

11 जनवरी 1966 को ताशकंद में शास्त्री जी का निधन हो गया। उनकी निस्वार्थ सेवा को भारत कभी नहीं भूलेगा। उन्हें हमेशा देश के सबसे महान शहीदों और नेताओं में गिना जाएगा।

 

Thank you (धन्यवाद)

Independence Dayyy

Essay on Mahatma Gandhi

Hi Friends,

Please find below the essay on Mahatma Gandhi, The essay is given in English and Hindi languages.

 

Essay on Mahatma Gandhi in English

 

Mahatma Gandhi is known as the Father of the Nation. His real name is Mohandas Karamchand Gandhi. He was born on October 2nd, 1869 in the state of Gujarat in a town named Porbandar. Who has added the name mahatma due to their work.

Gandhi is also known as Bapu. Gandhi was the biggest and great patriotic in India. His mother was Putlibai. Kasturba Gandhi was his wife married in 1883. After completing the matriculation, he went to London for further studies.

‘The story of My Experiments with Truth’ is the autobiography of Gandhi, covering his life from childhood through to 1921. This was published in his journal Navjivan.

‘Non-violence’ is the main weapon of Gandhi against independence, He inspired civil rights and freedom across the world. So, on 15th June 2007, the United Nations General Assembly voted to establish 2nd October as the International Day of Non-violence.

Mahatma Gandhi has done his law in England and returned to India in 1893.

Gandhi always believes that education is the most powerful weapon in this World for the new generation to achieve fundamental rights. After his degree, he started his career as a lawyer.

The social life of Mahatma Gandhi began in South Africa, and he faced many problems. Mahatma Gandhi once said, “The future depends on what you do today.” We can’t predict our future, but we can take a step today.

Mahatma Gandhi returned to India in 1915. He became very popular as a Father of the Nation. Many times he was insulted and tortured by white men because the white men were treating bad of a black man means the Indian.

He was very popular, and his reputation increases so much. He was also popular as a leading Indian Nationalist. Then he became a member of the Indian National Congress. He joined Gokhale’s group.

Gopal Krishna Gokhale is considered the political guru of Mahatma Gandhi. Many leaders got so much inspiration from the struggle of Mahatma Gandhi. As a part of the independence struggle, Gandhi launched many important movements such as Kheda Satyagraha, Champaran Satyagraha, Salt Satyagraha, non-cooperation, civil disobedience, and quit India movement.

The lifestyle of Gandhiji was very simple, In 1921 Gandhi started to use Indian Dhoti (loincloth) and a shawl woven with yarn by using hand. The Indian spinning wheel (Charka) show as a sign of India’s rural poor. He ate simple vegetarian food.

Nelson Mandela was also influenced by the freedom struggle of Gandhiji. After Indian independence, Gandhi tried to stop the Hindu- Muslim conflict in Bengal. His birth anniversary is celebrated as Gandhi Jayanti in India.

Gandhi Jayanti is celebrated to remember Gandhi’s sacrifice, peace, and non-violence.

Every year Gandhi Jayanti is feasted at Raj Ghat in New Delhi. The Prime Minister and the President of India gather here to pay the tribute by offering flowers to Gandhi’s Samadhi. And sang his favorite song.

Gandhi died on January 30th, 1948. Godse shooted Gandhi when he was getting from Birla House Prayer in Delhi. Once upon a meeting, Gandhi was asked to give a message to the people of India.

Gandhi said, “My life is my message”. He trying to spread truth and non-violence to the Indian People. His life was an inspiration for all Indians. Give a big salute to our Nation’s Father. Words are not enough to explain Gandhi’s sacrifices and values.

 

Essay on Mahatma Gandhi in Hindi

 

महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता के रूप में जाना जाता है। उनका असली नाम मोहनदास करमचंद गांधी है। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात राज्य में पोरबंदर नामक कस्बे में हुआ था। जिन्होंने अपने काम के चलते महात्मा का नाम जोड़ा है।

गांधी को बापू के नाम से भी जाना जाता है। गांधी भारत के सबसे बड़े और महान देशभक्त थे। उनकी माता पुतलीबाई थीं। कस्तूरबा गांधी उनकी पत्नी थीं जिनका विवाह 1883 में हुआ था। मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे आगे की पढ़ाई के लिए लंदन चले गए।

‘द स्टोरी ऑफ माई एक्सपेरिमेंट्स विथ ट्रुथ’ गांधी की आत्मकथा है, जो उनके बचपन से लेकर 1921 तक के जीवन को कवर करती है। यह उनकी पत्रिका नवजीवन में प्रकाशित हुई थी।

‘अहिंसा’ स्वतंत्रता के खिलाफ गांधी का मुख्य हथियार है, उन्होंने दुनिया भर में नागरिक अधिकारों और स्वतंत्रता को प्रेरित किया। इसलिए, 15 जून 2007 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में स्थापित करने के लिए मतदान किया।

महात्मा गांधी ने अपना कानून इंग्लैंड में किया और 1893 में भारत लौट आए।

गांधी हमेशा मानते हैं कि नई पीढ़ी को मौलिक अधिकार प्राप्त करने के लिए शिक्षा इस दुनिया में सबसे शक्तिशाली हथियार है। अपनी डिग्री के बाद, उन्होंने एक वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया।

महात्मा गांधी का सामाजिक जीवन दक्षिण अफ्रीका में शुरू हुआ और उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। महात्मा गांधी ने एक बार कहा था, “भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि आप आज क्या करते हैं।” हम अपने भविष्य की भविष्यवाणी नहीं कर सकते, लेकिन हम आज एक कदम उठा सकते हैं।

1915 में महात्मा गांधी भारत लौट आए। वे राष्ट्रपिता के रूप में बहुत लोकप्रिय हुए। कई बार गोरे लोगों द्वारा उनका अपमान और अत्याचार किया गया क्योंकि गोरे लोग एक काले आदमी का मतलब भारतीय के साथ बुरा व्यवहार कर रहे थे।

गांधी हमेशा मानते हैं कि नई पीढ़ी को मौलिक अधिकार प्राप्त करने के लिए शिक्षा इस दुनिया में सबसे शक्तिशाली हथियार है। अपनी डिग्री के बाद, उन्होंने एक वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया।

महात्मा गांधी का सामाजिक जीवन दक्षिण अफ्रीका में शुरू हुआ और उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। महात्मा गांधी ने एक बार कहा था, “भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि आप आज क्या करते हैं।” हम अपने भविष्य की भविष्यवाणी नहीं कर सकते, लेकिन हम आज एक कदम उठा सकते हैं।

1915 में महात्मा गांधी भारत लौट आए। वे राष्ट्रपिता के रूप में बहुत लोकप्रिय हुए। कई बार गोरे लोगों द्वारा उनका अपमान और अत्याचार किया गया क्योंकि गोरे लोग एक काले आदमी का मतलब भारतीय के साथ बुरा व्यवहार कर रहे थे।

नेल्सन मंडेला भी गांधीजी के स्वतंत्रता संग्राम से प्रभावित थे। भारतीय स्वतंत्रता के बाद, गांधी ने बंगाल में हिंदू-मुस्लिम संघर्ष को रोकने की कोशिश की। उनकी जयंती को भारत में गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है।

गांधी जयंती गांधी के बलिदान, शांति और अहिंसा को याद करने के लिए मनाई जाती है।

हर साल गांधी जयंती नई दिल्ली के राज घाट पर मनाई जाती है। गांधी की समाधि पर फूल चढ़ाकर श्रद्धांजलि देने के लिए प्रधानमंत्री और भारत के राष्ट्रपति यहां एकत्रित होते हैं।

30 जनवरी, 1948 को गांधी की मृत्यु हो गई। गोडसे ने गांधी को गोली मार दी जब वह दिल्ली में बिड़ला हाउस प्रार्थना से प्राप्त कर रहे थे। एक बार एक सभा में गांधी जी को भारत के लोगों को एक संदेश देने के लिए कहा गया।

गांधी ने कहा, “मेरा जीवन मेरा संदेश है”। उन्होंने भारतीय लोगों के लिए सत्य और अहिंसा फैलाने की कोशिश की। उनका जीवन सभी भारतीयों के लिए प्रेरणास्त्रोत था। हमारे राष्ट्रपिता को एक बड़ा सैल्यूट दें। गांधी के बलिदान और मूल्यों को समझाने के लिए शब्द पर्याप्त नहीं हैं।

 

Thank you (धन्यवाद)